loading

no name

Harendra Raj
धीरे धीरे उम्र कट जाती हैं,
जीवन यादों की पुस्तक बन जाती हैं,
कभी किसी की याद बहुत तड़पाती हैं,
और कभी यादों के सहारे जींदगी कट जाती हैं,
किनारों पे सागर के खजाने नहीं आते,
फिर जीवन में दोस्त पुराने नहीं आते,
जी लो इन पलों को हंस के दोस्तों,,,,
फिर लौट के दोस्ती के जमाने नहीं आते,,,,,,,